डेयरी उद्यमिता विकास स्कीम :Dairy Entrepreneurship Development Scheme

डेयरी उद्यमिता विकास स्कीम :

Dairy Entrepreneurship Development Scheme

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड)

पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन विभाग, डेयरी क्षेत्र में स्वरोजगार के अवसर पैदा करने के लिए बैंक द्वारा स्वीकार्य परियोजनाओं को प्रोत्साहन देकर, पूंजीगत सब्सिडी प्रदान करके दूध उत्पादन बढ़ाने, खरीद, संरक्षण, परिवहन, दूध की प्रोसेसिंग और मार्केटिंग जैसी गतिविधियों को शामिल करके डेयरी उद्यमित विकास योजना (डीईडीएस) को शुरू कर रहा है. यह स्कीम राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा लागू की गई है

इस स्कीम का उद्देश्य
  • शुद्ध दूध के उत्पादन के लिए आधुनिक डेयरी फार्मों की स्थापना को बढ़ावा देना
  • बछड़ा पालन को प्रोत्साहित करना, जिससे अच्छे प्रजनन पशुधन का संरक्षण किया जा सके
  • असंगठित क्षेत्र में संरचनात्मक परिवर्तन लाना ताकि ग्रामीण स्तर पर स्वयं ही दूध की प्रारंभिक प्रोसेसिंग की जा सकें
  • कमर्शियल स्केल पर दूध के संचलन के लिए गुणवत्ता और पारंपरिक तकनीक को अपग्रेड करना
  • स्वरोजगार उत्पन्न करना और मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र के लिए बुनियादी ढांचा प्रदान करना
पात्र लाभार्थी
Spread the love

5 thoughts on “डेयरी उद्यमिता विकास स्कीम :Dairy Entrepreneurship Development Scheme”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top